गुरुवार, 29 नवंबर 2018

आवाज़ मन की


                                    सुलग रहा यादों का जंगल, 
                                       तन्हा और बेजान, 
                                  आवाज़ उर में धड़क रही,
                                       बन मीठा सा गान, 
                                  ह्रदय प्रीत में  सुलग रहा, 
                                   सुमिरन पिया का नाम ,
                               नीर नयन  का  सूख  गया, 
                                 बन  मीठी   मुस्कान,  
                                लौट आएगे , माही  मेरे 
                                  मन  में था यही गान.. .....
                              पद्चिन्हों को  दिल से लगाया,
                                 बन  बैठें  श्री  राम, 
                              सीता उसकी राह तके, 
                               रुठ  गये   मेरे  राम  ,
                              मन बैरी बौराया  माही, 
                               धड़कन  हुई   बेचैन, 
                              वहम से नाता जोड़ रही, 
                                मूक वेदना की यही तान, 
                                लौट आएगे, माही  मेरे 
                                 मन में था यही  गान.........
                              प्रीत में उलझी मन की डोरी, 
                                  हाथ  हुये  बेजान ,
                               यादें  उर में  सुलग  रही ,
                                 तन्हा और बेजान, 
                              माही मेरे ,  मन  में  बैठे 
                              पुकारु  में   दिन  रैन,
                              लौट आएगे, माही मेरे 
                              मन  में था यही  गान  .......