रविवार, 2 दिसंबर 2018

धरा की उलझन



 मुद्दतों  बाद निकली जब घर से ,
  ख़ामोशी  में भी  सन्नाटा पसरा  पड़ा ,   
वट वृक्ष अश्रु  बहा रहा,
धरा  भी उलझन में  खड़ी  !!

                         मोहब्बत  से  आबाद हुआ जहाँ,
                              तिनका तिनका बिख़र रहा, 
                            कभी हरा भरा रहा आँचल, 
                          बेबसी  में आज सूखा पड़ा  !!

                                 मनु  बन  हमदर्द , 
                              दर्द  को  आग़ोश  में  भर,
                              कुछ क़दम  भी न चला  , 
                         सज़दे में  सर झुका दिल रो पड़ा   !!

                             बिछा  दिया दर्द  का दरिया 
                               मनु   धरा को  बहला रहा 
                                  मोहब्बत की आड़ में    
                             गुनाह अपना   छुपाये  खड़ा  !!