मंगलवार, 8 जनवरी 2019

ठूँठ

             

                                  वृद्ध   विहंग, 
                                एकांकी   विचरण ,
                                  मीत   ठूँठ, 
                                प्रीत   लाचारी, 
                            झर  रहा  दो  प्रणयियों, 
                         के  नयन  नीर  नीरस  जीवन  में |

                           स्नेह   प्रीत  पवन  पल्लवित  ,
                          विचरण   विहग  मुग्ध   स्वप्न  में |

                              प्रीत  पहन   ज्योतिर्मय,
                          जलधि - जलद   व्याकुल   प्रीत   में |

                              प्रज्ज्वलित   दीप   उम्मीद,
                               शुष्क   स्नेह  नयन   में |

                               उदीप्त   सकल   साज,
                                नीरस   जीवन    में |

                             धीर    धर   वसंत  पल्ल्वीत  , 
                             महके   ठूँठ   नील   गगन   में |

                           छाँह   बैठे   पथिक   पथ   ह्रदय, 
                           सुकून  आह   झलके   जीवन   में .....
     
                                     - अनीता